आज से वाहनों पर FASTag हुआ अनिवार्य

15 फरवरी 2021 से सभी टोल पर फास्टैग (FASTag) को अनिवार्य कर दिया गया है। अर्थात आज से यदि आपके फोर व्हीलर में फास्टैग नहीं लगा होगा तो आपको टोल प्लाजा पार करने के लिए दोगुना टोल टैक्स या हर्जाना देना होगा। फास्टैग इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन तकनीक है। इसमें रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन का इस्तेमाल होता है। हालांकि यह नई व्यवस्था दोपहिया वाहन वालों के लिए नहीं है। हाल ही में फास्टैग को रिचार्ज कराने में आ रही दिक्कतों को भी भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) ने दूर कर लिया है. अगर किसी वाहन का फास्टैग एकाउंट रिचार्ज नहीं है तो वाहन चालक टोल पर इसे रिचार्ज करा पाएंगे। नए नियम लागू होने के बाद बेहतर होगा कि यदि अब तक आपने अपनी कार में फास्टैग नहीं लगाया है तो जल्द से जल्द लगवा लें।

फास्टैग इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन डिवाइस के रूप में काम करता है। इसमें रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल होता है. फास्टैग रिचार्ज होने वाला प्रीपेड टैग है जो आपको अपनी कार के विंडशील्ड पर अंदर की तरफ से लगाया जाता है। जैसे ही आपकी गाड़ी टोल प्लाजा पर ठहरती है, तो टोल प्लाजा पर लगा सेंसर चिप आपकी कार या वाहन के विंडस्क्रीन पर लगे फास्टैग को ट्रैक कर लेता है। इसके बाद आपके फास्टटैग अकाउंट या खाते से उस टोल प्लाजा पर लगने वाला शुल्क या चार्ज कट जाता है। इस तरह आप टोल प्लाजा पर रुके बगैर शुल्क का भुगतान कर पाते हैं। वाहन में लगा यह टैग आपके प्रीपेड खाते के सक्रिय होते ही अपना काम शुरू कर देगा। वहीं, जब आपके फास्टैग अकाउंट की राशि खत्म हो जाएगी, तो आपको उसे फिर से रिचार्ज करवाना पड़ेगा।

FASTag को खरीदने के लिए आपके पास कई सारे विकल्प हैं. इसे आप पेटीएम, Amazon.in और फ्लिपकार्ट जैसे ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म से खरीद सकते हैं. इसके अलावा Fino Payments Bank और Paytm Payments Bank भी फास्टटैग जारी करते हैं. इतना ही नहीं इसे आप बैंक से भी खरीद सकते हैं. वर्तमान में FASTags की पेशकश करने वाले बैंकों में HDFC बैंक, ICICI बैंक, SBI, कोटक बैंक, एक्सिस बैंक के साथ-साथ पेटीएम पेमेंट्स बैंक भी शामिल हैं।
FASTag खरीदने की लागत दो चीजों पर निर्भर करती है. सबसे पहले तो आप जिस वाहन के लिए इसे खरीद रहे हैं वह कार है या जीप-वैन, या फिर बस, ट्रक, कार्मशियल वाहन या फिर कंस्ट्रक्शन मशीन, इस पर निभर्र करता है. दूसरा, जिस बैंक से आप FASTag खरीद रहे हैं उसके जारी करने के संबंध में उनकी फीस और सिक्योरिटी डिपाॅजिट पाॅलिसी क्या होंगी?
उदाहरण के लिए, जैसे कि इस वक्त अगर आप Paytm से कार के लिए FASTag खरीदते हैं तो आपको 500 रुपये में लगेंगे. इसमें 250 रुपए रिफंडबेल सिक्योरिटी डिपाॅजिट और 150 मिनिमम बैलेंस शामिल हैं जिन्हें बनाए रखना होगा. यदि आप इसे ICICI बैंक से खरीदते हैं, तो आपको टैग के लिए 99.12 रुपये और मिनिमम बैलेंस के रूप में 200 रुपये लगेगा। हालांकि, कई बैंक अपनी भागीदारी बढ़ाने के लिए समय-समय पर मुफ्त या मामूली कीमत में भी फास्टैग ऑफर करते हैं. नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया ने फास्टैग की कीमत 100 रुपए तय की है. इसके अलावा 200 रुपए की सिक्युरिटी डिपॉजिट देनी पड़ती है।

रिचार्ज कैसे करें?


यदि फास्टटैग NHAI प्रीपेड वॉलेट से जुड़ा है, तो इसे चेक के माध्यम से या यूपीआई/डेबिट कार्ड/क्रेडिट कार्ड/NEFT/नेट बैंकिंग आदि के माध्यम से रिचार्ज किया जा सकता है। अगर बैंक खाते को फास्टटैग से लिंक होता है, तो पैसे सीधे खाते से काट लिया जाता है। अगर Paytm वॉलेट को फास्टटैग से लिंक होता है, तो पैसे सीधे वॉलेट से काट लिया जाता है।

FASTag वॉलेज में कम बैलेंस होने पर क्या होगा?

FASTag वॉलेज में न्यूनतम बैलेंस होने पर भी आप टोल पार कर सकेंगे। कुछ दिन पहले ही NHAI ने फास्टैग जारी करने वाले बैंकों से कहा है कि वे सिक्योरिटी डिपॉजिट के अलावा कोई न्यूनतम बैलेंस रखना अनिवार्य नहीं कर सकते हैं। पहले अलग-अलग बैंक फास्टैग में सिक्योरिटी डिपोजिट के अलावा मिनिमम बैलेंस रखने के लिए भी कह रहे थे। कोई बैंक 150 रुपये तो कोई बैंक 200 रुपये का मिनिमम बैलेंस रखने को कह रहे थे। मिनिमम बैलेंस होने की वजह से कई FASTag उपयोगकर्ताओं को अपने FASTag खाते/वॉलेट में पर्याप्त शेष होने राशि के बाद भी एक टोल प्लाजा से गुजरने की अनुमति नहीं मिलती थी।

FASTag की वैधता क्या है?

FASTag जारी होने की तारीख से फास्टैग की वैधता अगले पांच साल तक की होती है. आपके रिचार्ज की कोई वैधता नहीं होती यानी अगर आपने रिचार्ज के बाद लंबे समय तक नेशनल हाईवे पर यात्रा नहीं की तो यह रिचार्ज फास्टैग की वैधता तक वैध रहेगा.

  • FASTag कुल टोल कलेक्शन का 80 फीसदी

देश भर में 2.54 करोड़ से अधिक फास्टैग के यूजर हैं. हाइवे पर FASTag कुल टोल कलेक्शन का 80 फीसदी योगदान देता है। इस समय FASTag के माध्यम से डेली टोल कलेक्शन 89 करोड़ रुपए को पार कर गया है। गौरतलब है कि 15 फरवरी 2021 से फास्टैग के माध्यम से टोल प्लाजा पर भुगतान अनिवार्य हो जाएगा. ऐसा इसलिए, क्योंकि भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण देश भर में टोल प्लाजा पर 100% कैशलेस टोल प्राप्त करने का लक्ष्य बना रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here